चाहूगा मैं तुझे, दोस्ती से (१९६४)–My Attempted Translation

चाहूगा मैं तुझे साँझ सवेरे (I will desire you night and morning)
फिरभी कभी अब नाम को तेरे (Still, your name never)
आवाज़ मैं ना दूँगा (Will I call)
आवाज़ मैं ना दूँगा (Literal translation—I won’t give voice to)

चाहूगा मैं तुझे साँझ सवेरे
फिरभी कभी अब नाम को तेरे
आवाज़ मैं ना दूँगा
आवाज़ मैं ना दूँगा
चाहूगा मैं तुझे साँझ सवेरे

देख मुझे सब है पता (Look, I know everything)
सुनता है तू मन की सदा (You listen to the heart’s yearnings)

देख मुझे सब है पता
सुनता है तू मन की सदा

मितवा, मेरे यार (My dear, my friend)
तुझ को बार बार (To you again and again)
आवाज़ मैं ना दूँगा (I will not call out)
आवाज़ मैं ना दूँगा

चाहूगा मैं तुझे साँझ सवेरे
फिरभी कभी अब नाम को तेरे
आवाज़ मैं ना दूँगा
आवाज़ मैं ना दूँगा
चाहूगा मैं तुझे साँझ सवेरे

दर्द भी तू चैन भी तू (You are pain; you are also peace)
दरस भी तू नैन भी तू (You are sight; you are also the eye)

दर्द भी तू चैन भी तू
दरस भी तू नैन भी तू

मितवा, मेरे यार
तुझ को बार बार
आवाज़ मैं ना दूँगा
आवाज़ मैं ना दूँगा

चाहूगा मैं तुझे साँझ सवेरे
फिरभी कभी अब नाम को तेरे
आवाज़ मैं ना दूँगा
आवाज़ मैं ना दूँगा
आवाज़ मैं ना दूँगा

Advertisements

About FreeFlowingThoughts

All of the writing is original and some of the drawings are too. I do these as a form of stress relief and to share my work with others.
This entry was posted in Poetry, Song Translation and tagged , , , . Bookmark the permalink.

One Response to चाहूगा मैं तुझे, दोस्ती से (१९६४)–My Attempted Translation

  1. Mohit Tiwari says:

    wowww..Rafi at his best…

    Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s